किशोर विद्यार्थियों में वैज्ञानिक अभिवृत्ति का विकास

Author Name :- Shivani Bhatnagar,Dr. Sonika Kakkar,

Journal type:- NJRIP-National Journal of Research and Innovative Practices

Research Field Area :-  Department of Education ; , , No. of Pages: 10 

Your Research Paper Id :- 2020080114

Download Published File :-  Click here

Abstraction :-

विज्ञान को बुद्धिजीवियों ने एवं वैज्ञानिकों ने अपने अपने मतानुसार परिभाषित किया है उन्होंने इसे ज्ञान समुदाय भी कहा है। इस ज्ञान समुदाय में सभी स्थापित तथ्य सम्मिलित है जिसमें प्रेक्षित दत्त एवं उनके आधार पर वर्णित सामान्यकरण शामिल है। सामान्य ज्ञान को विज्ञान कहते है या एक विशेष ज्ञान या जानकारी के क्रम को विज्ञान कहते हैं जो हमें अनुभव और वैज्ञानिक तरीकों के माध्यम से प्राप्त होते है। किसी भी विषय ज्ञान, वस्तु या व्यवस्थित ज्ञान को विज्ञान कहा जा सकता है। विज्ञान को बुद्धि द्वारा ग्रहण किया जाता है और शब्दों के माध्यम से दूसरों तक प्रेक्षित किया जाता है। विज्ञान का सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य विद्यार्थियों में वैज्ञानिक अभिवृत्ति का विकास करना है जिससे विद्यार्थियों का जीवन के प्रति नजरिया व्यवहारिक एवं आलोचनात्मक बन सके।

Keywords :- 

किशोर , वैज्ञानिक, अभिवृत्ति, विकास, विद्यार्थियों

References :-

1. अस्थाना, विपिन (1994), मनोविज्ञान और शिक्षा में मापन और मूल्यांकन, विनोद पुस्तक मंदिर, आगरा।
2. भटनागर, आर.पी. (1998), एज्यूकेशन, रिजर्व इन्टरनेशनल पब्लिकेशन, मेरठ।
3. डेविस, सी. (1935), दा मेजरमेन्ट आॅफ सांइटिफिक एटिट्यूड साइंस एज्यूकेशन।
4. गाडनर, पी.एल. (1975), दा स्टेªक्चर आॅफ साइंस एज्यूकेशन, लोगमैन आॅस्टेªलिया।
5. कुमार, राहुल (2012), विज्ञान शिक्षण, सीमा पब्लिकेशन, जयपुर पृ.स. 5-24
6. सूद, जे. के. (2013), टीचिंग आॅफ साइंस, श्री विनोद पुस्तक मंदिर आगरा।
7. कार्ल पीयरसन (1992), दा इमपेक्ट आॅफ साइंस टीचिंग, एलन एवं बेकोन, बोस्टन।
8. Krishnamacharyalu, V. (2011), Elementary Education, Neelkamal Publication. Pvt. Ltd.
9. Diederich, P.B. (1967), Components of scientific attitude. The science teacher, Vol. 34, p. 23-24.
10. Gautam, V. (2002), A Study of scientific attitude in relation in interest in science, Research and studies, vol. (46-53).